सावधान


प्रतिभा ईश्वर से मिलती है,
नतमस्तक रहें..!

ख्याति समाज से मिलती है,
आभारी रहें..!

मनोवृत्ति और घमंड स्वयं से मिलते हैं,
सावधान रहें..!!

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अगर कोई समस्या हो ही न, तो फिर समाधान कैसा?

मित्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐ

कुम्हार - जाति की उत्पत्ति सम्बन्धी किवदन्ति