रविवार, 6 अगस्त 2017

मित्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐ

तप्त ह्दय सरस स्नेह से
जो सहला दे मित्र वही है
रूखे मन को सरोबार कर
जो नहला दे मित्र वही है
प्रिय वियोग संतप्त चित्त को
जो बहला दे मित्र वही है
अश्रु बूंद की एक झलक से
जो दहला दे मित्र वही है
मित्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ

कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं , जीता वही जो डरा नहीं | आप टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ बेझिझक दें, और हमें बेहतर होने में मदद करें.