बुधवार, 23 अगस्त 2017

सुभाषित


वाणी रसवती  यस्य यस्य श्रमवती क्रिया ।
लक्ष्मीर्दानवती यस्य सफलं तस्य जीवितम् ॥

भावार्थ- जिसकी वाणी रसपूर्ण हो, कर्म-क्रिया श्रमवान हो, और लक्ष्मी दानवती हो उसका जीवन निश्चित ही सफल होता है।

शान्तितुल्यं तपो नास्ति
           न संतोषात्परं सुखम्।
न तृष्णया: परो व्याधिर्न
           च धर्मो दया परा:।।

भावार्थ- शान्ति के समान कोई तप नही है, संतोष से श्रेष्ठ कोई सुख नही, तृष्णा से बढकर कोई रोग नही और दया से बढकर कोई धर्म नहीं।
   
      
   

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ

कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं , जीता वही जो डरा नहीं | आप टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ बेझिझक दें, और हमें बेहतर होने में मदद करें.