पोस्ट

दिसंबर, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

स्वजाति प्रेम

स्वजाति प्रेम  एक वन में एक तपस्वी रहते थे। वे बहुत पहुंचे हुए ॠषि थे। उनका तपस्या बल बहुत ऊंचा था। रोज वह प्रातः आकर नदी में स्नान करते और नदी किनारे के एक पत्थर के ऊपर आसन जमाकर तपस्या करते थे। निकट ही उनकी कुटिया थी, जहां उनकी पत्नी भी रहती थी। एक दिन एक विचित्र घटना घटी। अपनी तपस्या समाप्त करने के बाद ईश्वर को प्रणाम करके उन्होंने अपने हाथ खोले ही थे कि उनके हाथों में एक नन्ही-सी चुहीया आ गिरी। वास्तव में आकाश में एक चील पंजों में उस चुहिया को दबाए उडी जा रही थी और संयोगवश चुहिया पंजो से छुटकर गिर पडी थी। ॠषि ने मौत के भय से थर-थर कांपती चुहिया को देखा। ठ्र्षि और उनकी पत्नी के कोई संतान नहीं थी। कई बार पत्नी संतान की इच्छा व्यक्त कर चुकी थी। ॠषि दिलासा देते रहते थे। ॠषि को पता था कि उनकी पत्नी के भागय में अपनी कोख से संतान को जन्म देकर मां बनने का सुख नहीं लिखा हैं। किस्मत का लिखा तो बदला नहीं जा सकता परन्तु अपने मुंह से यह सच्चाई बताकर वे पत्नी का दिल नहीं दुखाना चाहते थे। यह भी सोचते रहते कि किस उपाय से पत्नी के जीवन का यह अभाव दूर किया जाए। ॠषि को नन्हीं चुहिया पर दया आ गई

लोक कथाएँ | Folk-stories

Panchatantra Tenali Ramalinga Festivals Bhetala Akbar Birbal कथासाहित्य (संस्कृत) हितोपदेश सिंहासन बत्तीसी बेताल पच्चीसी कथासरित्सागर Folk-stories ----------------------- कहानी story, tale, fairytale, narrative, novel, novelette कथा tale, narrative, story, narration, saga, novel कथानक script, story, photoplay, scenario, underplot वृत्तांत chronicle, story, event, history, incident, incidental खंड section, segment, block, part, fragment, piece फसाना story, long narrative उपकथा episode, tale, story, page अफ़साना tale, story, novelette, narrative उपन्यास का कथानक intrigue, story, plot जीवनी biography, life, personalia, story नाटक की कथा का आधार story मंज़िल destination, stage, story, storey, halt, leg