चूहे और शेर की दोस्ती

एक बार राजस्थान के रणथंभौर के जंगल में एक शेर गहरी नींद सो गया। उसके पास कुछ चूहे लुका-छिपी खेल रहे थे। एक चूहा शेर के पंजे के नीचे फंस गया। शेर उठा, जोर से हँसा और चूहे को जाने दिया!
कुछ दिनों बाद चूहे ने शेर की दहाड़ सुनी। उसने देखा कि शेर बहुत दर्द में पड़ा था क्योंकि वह कई रुपये से बंधा हुआ था। चूहे ने अपने नुकीले दांतों का इस्तेमाल किया और रस्सी को काट दिया। इस तरह वह भाग निकला।

दरअसल, जरूरतमंद दोस्त काम में दोस्त होता है।  हर दोस्त की यही तमन्ना होती है कि वह जरूरत के वक्त दोस्त के काम आए।

"आप एक सच्चे दोस्त हैं," शेर ने कहा।

इसके बाद चूहे और शेर की दोस्ती हो गई। वे बाद में जंगल में खुशी-खुशी रहने लगे।

ईसप की दंतकथाओं से


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मित्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐ

अगर कोई समस्या हो ही न, तो फिर समाधान कैसा?

तलाश